Shok Lyrics - Shloka (Prod. By Shaashwat Pande) in Hindi and English

 Shok - Shloka


  

Song Name : Shok

Written By : Shloka and Shaashwat pande

Singers : Shloka and Shaashwat pande

Release Date : 25/10/2020

Label : The Shloka

Produced By : Shaashwat pande

 

   LYRICS


Verse 1:- 


na jaane kahan se shuruat karu

fir aaj bihar ki baat karu

jazbaat lapete lafz leke

wo kissa fir ek baar kahu


cheekh bache hain chaaro oor

theen nahi kuch daalo gaur

swaan ke jaise haal jano ka

bheekh diye hain kha lo kaur


dagger gaanthe maathe me

koi 20 hazaar khoon kiye

kahi zinda feka acid me

kahi 47 se bhoon diye


bhagwaan kasam sab baat pakka

kai baar zakhm diye kaal satta

barbaad kiye kar use youth

liye haath kalam pakdaye katta


utar gaye ladke taskari me

trigger dabaye ye tarjani se

bullet pe chadhte daru bech inhe

sabar nahi lat  quick money ke


dikhta hai yahan ghor kaal yahan

sikshaaur haan rozgaar kahan

bahubaliyon ke jungleraj me

tikta hai jo zordaar yahan


mastak mein bas shakti

hamre rakshak bhi hain sanki

inke bhakshak se lakshan hai

rakto se latpat ye wardi


laash kisi apne ka dekh kar

kitno ka bachpan kata hai

ye geet wahan se likh raha

jahan kuch din pehle bomb fata hai


Hook:-


bhay hunkaare hum pukare tora kahan desh

jane kahan ho o mere shambhu mere mahadev


bhay hunkaare hum pukare tora kahan desh

jane kahan ho o mere shambhu mere mahadev


bhay hunkaare hum pukare tora kahan desh

jane kahan ho o mere shambhu mere mahadev


(mahavdeeeeev)


Verse 2:-


log bhi karte neech kaaj

jaat pe ladte sheesh kaat

bank ka PO dulha chahiye

chaar chakka aur 20 laakh


sab sehme chin gayechain vain

kahin dhaan de hamri behen vhen

aur bhai bhand hai bong peeke

kare maar peet aur gang gang


shakti aur satta ke bal

ghar bhar gaye kitno ke dhara bech

bas bhookh loot aur ghooth mila

ab aap kahan hain mahadev


prakrati bhi maarti

niyati me khaakh hi

bijli ya baadh se mare

ginti na kar laash ki


lag jaye bhale ab chaati pe tori

un sab jan ke rakto ka chaap

jal rahe kitne hi gum sum sunn se

aur badh raha tere un bhakto ka taap


manjar bana ye khaak se

banjar dhara ye shaap se

ambar ho fir se neela

shankar pada mein aas mein


masan ki aag badhe

gumaan mein aaj lade

koi inke liye pade

saman ye laash


har oor cheekh aur matam mein

likhu aashaon ke geet chand

iss vish nagar bas vish bache hain

kya vish piyoge fir neelkanth?


Hook:-


bhay hunkaare hum pukare tora kahan desh

jane kahan ho o mere shambhu mere mahadev


bhay hunkaare hum pukare tora kahan desh

jane kahan ho o mere shambhu mere mahadev


bhay hunkaare hum pukare tora kahan desh

jane kahan ho o mere shambhu mere mahadev


(mahavdeeeeev)

(mahavdeeeeev)

(mahavdeeeeev)


Lyrics In Hindi

Verse 1:-

ना जाने कहां से शुरूआत करूं फिर आज बिहार की बात करूं जज़्बात लपेटे लफ़्ज़ लेके वो किस्सा फिर एकबार कहूं

चीख बचे हैं, चारों ओर ठीक नहीं कुछ, डालो गौर स्वान के जैसे हाल जनों का भीख दिए हैं खा लो कौर,

/ डैगर गांथे माथे में, कोई बीस हजार में खून किये कंही जिंदा फेंका एसिड में कंही सैंतालीस से भून दिये

भगवान कसम सब बात पक्का कई बार ज़ख्म दिये काल सत्ता बर्बाद किये कर यूज यूथ लिए हाथ कलम पकड़ाए कट्टा

उतर गये लड़के तस्करी में ट्रिगर दबाए ये तरजनी से बुलेट पे चढ़ते बेच दारू इन्हें सबर नहीं लत क्विकमनी के

दिखता है एक घोरकाल यहां शिक्षा और हां रोजगार कहां बाहुबलियों के जंगलराज में टिकता है जो जोरदार यहां

मष्तक मे बस शक्ति हमरे रक्षक भी हैं सनकी इनके‌ भक्षक से लक्षण हैं रक्तों से लथपथ ये वर्दी

लाश किसी अपने का देखके कितनों का बचपन कटा है ये गीत वहां से लिख रहा जहां कुछ दिन पहले बम फटा है

Hook:-

भय हुंकारें हम पुकारें तोरा कहां देश जाने कहां हो ओ मेरे शंभू मेरे महा देव

भय हुंकारें हम पुकारें तोरा कहां देश जाने कहां हो ओ मेरे शंभू मेरे महा देव

भय हुंकारें हम पुकारें तोरा कहां देश जाने कहां हो ओ मेरे शंभू मेरे महा देव

(महा देव)


Verse 2:-

लोग भी करते नीच काज जात पे लड़ते शीश काट बैंक का पीओ दुल्हा चाहिए चार चक्का और बीस लाख

सब सहमे छिन गये चैन वैन कंही डाह दे हमरी बैहन वैन और भाई भंड हैं बौंग पी के करे मार पीट और गैंग गैंग

शक्ति और सत्ता के बल घर भर गये कितनों के धरा बेच बस भूख लूट और झूठ मिला अब आप कहां हैं महादेव प्रकृति भी मारती नियति में ख़ाक ही बिजली या बाढ़ से मरे गिनती ना कर लाश की

लग जाए भले अब छाती पे तोरी उन सब जन के रक्तों का छाप जल रहे कितने ही गुम सुम सुन्न से बढ रहा तेरे उन भक्तों का ताप

मंजर बना ये ख़ाक से बंजर धरा ये शाप से अंबर हो फिर से नीला शंकर पड़ा मैं आस में

हर ओर चीख और मातम में लिखुं आशाओं के गीत छंद इस विष नगर बस विष बचे हैं क्या विष पियोगे फिर नीलकंठ


Hook:-


भय हुंकारें हम पुकारें तोरा कहां देश जाने कहां हो ओ मेरे शंभू मेरे महा देव

भय हुंकारें हम पुकारें तोरा कहां देश जाने कहां हो ओ मेरे शंभू मेरे महा देव

भय हुंकारें हम पुकारें तोरा कहां देश जाने कहां हो ओ मेरे शंभू मेरे महा देव

(महा देव)

(महा देव)

(महा देव)

Post a Comment

0 Comments